हमारा शारीरिक स्वास्थ्य हमारे द्वारा खाए जाने वाले भोजन से शुरू होने वाली विभिन्न गतिविधियों पर आधारित होता है। लेकिन हमारा शारीरिक स्वास्थ्य उन व्यक्तिगत गतिविधियों के आधार पर बदलता है जो हम दैनिक आधार पर करते हैं। हमारा शारीरिक स्वास्थ्य उन प्रमुख कारकों में से एक है जो शारीरिक स्वास्थ्य में बदलाव लाते हैं। इस स्वच्छता में कई चीजें शामिल हैं जो हम हर दिन अपने दांतों को ब्रश करने से लेकर स्नान करने तक करते हैं। आइए अब उन कुछ महत्वपूर्ण शारीरिक स्वास्थ्य मुद्दों पर नजर डालते हैं।

नाखूनों में कीटाणु

कुछ लोगों को नाखून चबाने की आदत होती है। यह एक बुरी आदत है। कई अध्ययनों के अनुसार, नाखूनों में कीटाणुओं की आशंका अधिक होती है क्योंकि वे नम होते हैं।

नाखूनों द्वारा काटे जाने पर वे मुंह के अंदर जा सकते हैं और आपके शारीरिक स्वास्थ्य में समस्या पैदा कर सकते हैं।

इसलिए बेहतर यही है कि जिन लोगों को अपने नाखून काटने की आदत होती है, वे इसे बंद कर दें। साथ ही लंबे समय तक नाखून बढ़ने से स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं हो सकती हैं।

बिस्तर रोगाणु

ज्यादातर लोग अपने तकिए कभी नहीं बदलते। इस प्रकार आप कीड़ों से भरे शयनकक्ष में लेटे होने की संभावना रखते हैं।

वे हमारी आंखों के लिए अदृश्य हैं। ये कीट हमारे शारीरिक स्वास्थ्य में समस्याएं पैदा करते हैं। इससे अस्थमा, छींक और खांसी जैसी सांस लेने में तकलीफ हो सकती है।

सप्ताह में एक बार तकिए को धोना और बदलना आवश्यक है।

चुकंदर के फायदे: ज्यादा चुकंदर खाने से शरीर में क्या बदलाव होंगे…

हेडफोन

हम हेडफोन का उपयोग करके फोन पर बात करते हैं; हम गाना सुनते हैं। ज्यादा इस्तेमाल से ये गंदे हो जाते हैं। जिससे और ज्यादा बैक्टीरिया बनने लगे।

हेडफोन को साफ करना जरूरी है। हेडफ़ोन में छोटे इलेक्ट्रॉनिक घटक होते हैं जो हेडफ़ोन को बिना नुकसान पहुंचाए साफ करना मुश्किल बनाते हैं। तो आप उन्हें बिना नुकसान पहुंचाए साफ करने के लिए कीटाणुनाशक का उपयोग कर सकते हैं।

लंबे दिनों तक एक ही हेडफ़ोन का उपयोग किए बिना उन्हें समय-समय पर बदलना बेहतर होता है।

मौखिक स्वास्थ्य

मुंह कभी-कभी बैक्टीरिया से भरा होता है, भले ही वह क्षेत्र अच्छी तरह से साफ हो। बैक्टीरिया अत्यधिक संक्रामक होते हैं, खासकर जब जोड़े चुंबन करते हैं।

एक अध्ययन से पता चलता है कि 10 सेकंड तक किस करने से 80 मिलियन बैक्टीरिया फैल सकते हैं। लेकिन इससे आपके बीमार होने की संभावना अधिक नहीं होती है।

बालों की देखभाल के टिप्स: रूखे बालों को चमकदार बनाने के लिए घर पर कौन से हैं नेचुरल हेयर कंडीशनर…

दाढ़ी बढ़ाएं

हालांकि कई पुरुष दाढ़ी बढ़ाना पसंद करते हैं, लेकिन कई लोग इस बात से अनजान होते हैं कि इससे बैक्टीरिया पैदा होते हैं। दाढ़ी बनाए रखना बहुत जरूरी है।

दिलचस्प बात यह है कि एक अध्ययन में पाया गया है कि दाढ़ी बढ़ाने वाले पुरुषों की तुलना में अधिक बार दाढ़ी बनाने वाले पुरुषों में बैक्टीरिया के संक्रमण अधिक होते हैं।

दाढ़ी बढ़ाने में एक और महत्वपूर्ण अच्छी बात यह है कि यह त्वचा को यूवी किरणों से बचाती है।

कॉन्टेक्ट लेंस

कुछ लोग आंखों के लिए कॉन्टैक्ट लेंस का इस्तेमाल करते हैं। कॉन्टैक्ट लेंस को संभालते और साफ करते समय अपने हाथों को साफ रखना चाहिए।

फिर अपने हाथों को अच्छी तरह से धोना बेहतर है। अन्यथा आपकी त्वचा से आपकी आंखों में बैक्टीरिया के संचरित होने की संभावना है।

क्या मधुमेह रोगी नारियल और नारियल का दूध खा सकते हैं?

रिंगों

कुछ महिलाएं अपने द्वारा पहनी गई अंगूठी को कभी नहीं हटाती हैं। लेकिन वास्तव में अंगूठी को बार-बार धोना और साफ करना बेहतर है।

जीवाणु संक्रमण के एक अध्ययन से पता चला है कि छल्ले में बैक्टीरिया के खतरनाक स्तर होते हैं।

जिस क्षेत्र में अंगूठी पहनी जाती है वह नम होती है इसलिए वहां बैक्टीरिया आसानी से बन सकते हैं।

घर में जूते पहनना

कुछ लोगों को घर में सैंडल पहनने की आदत होती है। लेकिन यह प्रक्रिया आपके स्वास्थ्य के लिए हानिकारक हो सकती है।

एक अध्ययन में पाया गया कि जूतों के बाहर 4,21,000 बैक्टीरिया मौजूद थे। इनसे आंतों में संक्रमण हो सकता है। इसलिए घर के अंदर जूते पहनने से बचना ही बेहतर है।

विटामिन डी से भरपूर शीर्ष 10 खाद्य पदार्थ कौन से हैं?…

पर्स

पुरुष और महिला दोनों एक ही पर्स को लंबे समय तक रखेंगे। मैं इसे सिर्फ इसलिए नहीं फेंकना चाहता क्योंकि मैं इसे खरीदता हूं।

लेकिन एक अध्ययन में पाया गया है कि एक ही पर्स को ज्यादा दिनों तक इस्तेमाल करने से स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं हो सकती हैं।

ये बैक्टीरिया पैदा करते हैं। इसलिए अपने पर्स को बार-बार साफ करने की आदत डालें।

सौंदर्य एड्स

पुराने सौंदर्य प्रसाधनों से बचना बेहतर है। पुराने सौंदर्य प्रसाधनों का उपयोग गंभीर जोखिम पैदा कर सकता है।

एक्सपायर हो चुकी लिपस्टिक जैसे पांच कॉस्मेटिक उत्पादों में बैक्टीरिया पाए गए जो मेनिन्जाइटिस और गैस्ट्राइटिस जैसी गंभीर बीमारियों का कारण बन सकते हैं।

Source link