अन्य समय के मुकाबले सर्दियों में चुकंदर का अधिक सेवन करना जरूरी है। हम जानते हैं कि चुकंदर उच्च स्तर के रक्त का उत्पादन करता है। यह चुकंदर शरीर में क्या-क्या बदलाव लाता है। यहां बताया गया है कि यह किन समस्याओं को ठीक करता है।

चुकंदर में पोषक तत्व

चुकंदर कई तरह के पोषक तत्वों से भरपूर होता है। वे क्या हैं… चुकंदर में कैलोरी बहुत कम होती है।

150 ग्राम चुकंदर में केवल 58 कैलोरी होती है।

  • कार्बोहाइड्रेट – 13 किग्रा
  • प्रोटीन – 2 किलो
  • फाइबर – 4 किलो
  • कैल्शियम – 22 मिलीग्राम
  • आयरन – 1.3 मिलीग्राम
  • सोडियम – 72 मिलीग्राम
  • मैग्नीशियम – 34 मिलीग्राम
  • फास्फोरस – 52 मिलीग्राम
  • पोटेशियम – 446 मिलीग्राम
  • जिंक – 47 मिलीग्राम
  • मैंगनीज – 44 मिलीग्राम
  • विटामिन सी – 6 मिलीग्राम
  • बीटाइन-175 मिलीग्राम
  • फोलेट – 148 मिलीग्राम
  • स्टार्च – 10 किग्रा
  • फाइबर – 5 किलो

पोषक तत्वों से भरपूर।

अल्सर ठीक हो गया

जो लोग बहुत अधिक कारण वाले खाद्य पदार्थ खाते हैं या उचित जीवन शैली का पालन नहीं करते हैं, उन्हें अल्सर होने की संभावना अधिक होती है। इस प्रकार अल्सर से पीड़ित लोग अपने आहार में चुकंदर का अधिक सेवन कर सकते हैं। रोज खाने की जरूरत नहीं है। चुकंदर के रस में थोड़ा सा शहद मिलाकर सप्ताह में 3 दिन खाली पेट पीने से छाले जल्दी ठीक हो जाते हैं।

वजन घटाने के टिप्स: क्या वजन कम करने वाले लोग दूध पी सकते हैं?

चाय बनाने के लिए

चुकंदर का रस शरीर के आंतरिक अंगों जैसे किडनी, गॉलब्लैडर, लीवर से विषाक्त पदार्थों को निकालने और शरीर से अपशिष्ट को बाहर निकालने का सबसे अच्छा उपाय है। महीने में चार दिन चुकंदर के रस का सेवन करने से शरीर के अंगों की सफाई होती है।

बालों की देखभाल के टिप्स: रूखे बालों को चमकदार बनाने के लिए घर पर कौन से हैं नेचुरल हेयर कंडीशनर…

लाल रक्त कोशिकाओं

चुकंदर में आयरन और विटामिन बी1 की मात्रा अधिक होती है, जो लाल रक्त कोशिकाओं की संख्या को बढ़ाता है। रक्त प्रवाह बढ़ाता है।

चुकंदर के रस में थोड़ा सा नींबू का रस मिलाकर पिएं। स्वाद सकता है। हरी चुकंदर को पतले स्लाइस में काटा जा सकता है और नींबू के रस के साथ खाया जा सकता है।

बिल्कुल जलता है

त्वचा पर कोई भी जलन त्वचा पर घाव और छाले पैदा कर सकती है। इससे अधिक जलन और दर्द हो सकता है। जलन और फफोले को रोकने के लिए चुकंदर का उपयोग किया जा सकता है। जले हुए स्थान पर चुकंदर के रस को लगाने से घाव वाले स्थान पर छाले नहीं होंगे।

क्या आपने पॉपकॉर्न की कई वैरायटी देखी है… घर पर एग बारकोर्न कैसे बनाएं? वायरल रेसिपी..

भड़काऊ गुण

चुकंदर बीटाइन नामक एंटी-इंफ्लेमेटरी गुणों से भरपूर होता है जो पुरानी सूजन को दूर करने में मदद करता है। सूजन को दूर करने में मदद करता है, खासकर किडनी में।

पाचन शक्ति बढ़ाने के लिए

चुकंदर में पानी में घुलनशील फाइबर की मात्रा अधिक होती है, जो पाचन क्रिया को बढ़ाता है। चयापचय में वृद्धि। कोलन को ज्यादा पानी सोखने से बचाकर कोलन को साफ रखना।

दुष्प्रभाव

बहुत अधिक चुकंदर खाने से ब्रोंकाइटिस हो सकता है।

चुकंदर में ऑक्सलेट की मात्रा अधिक होती है, जिससे शरीर के लिए अन्य खाद्य पदार्थों से कैल्शियम को अवशोषित करना मुश्किल हो जाता है। इसमें गुर्दे की पथरी के खतरे को बढ़ाने की क्षमता होती है।

चुकंदर में नाइट्रेट की मात्रा अधिक होती है, जिसे अधिक मात्रा में लेने पर पेट में दर्द हो सकता है।

Source link