कई महिलाओं को मासिक धर्म चक्र के दौरान मासिक धर्म में ऐंठन और दर्द का अनुभव होता है। इसके अलावा, पेट में दर्द, सूजन, मतली और उल्टी होने की संभावना अधिक होती है। मासिक धर्म के दर्द के लक्षण हर व्यक्ति में अलग-अलग होते हैं। इसके अलावा, मासिक धर्म में ऐंठन सिरदर्द और दस्त का कारण बन सकती है।

मासिक – धर्म में दर्द

आयुर्वेदिक विशेषज्ञों का कहना है कि अगर आप भी मासिक धर्म में ऐंठन और ऐंठन से जूझ रहे हैं, तो आप इसे प्रबंधित करने के लिए आयुर्वेदिक उपचार ले सकते हैं। आइए देखें कि मासिक धर्म के दर्द से छुटकारा पाने के आयुर्वेदिक तरीके क्या हैं। इन चरणों को घरेलू सामान के साथ हर कोई आसानी से कर सकता है।

चाय पीएँ

गर्म और मीठी चाय पीकर आप अपने ऐंठन को कम कर सकते हैं।

गर्म पानी की ड्रेसिंग

दर्द वाली जगह पर गर्म सेक लगाने से दर्द कम हो सकता है। मासिक धर्म के दौरान पेट दर्द सबसे आम दर्द है। इस पर काबू पाने के लिए बहुत से लोग समय के साथ हॉट कंप्रेस करते हैं। मासिक धर्म के दौरान गर्भाशय की मांसपेशियों के संकुचन के कारण पेट में दर्द होता है। गर्म सेक पेट के इस संकुचन को आराम देने में मदद करते हैं।

घर का बना फेसपैक: चेहरे को चमकदार बनाने के लिए कैक्टस – मिस्टलेटो फेसपैक … कैसे इस्तेमाल करें …

धूप में रहें

हम जानते हैं कि सूरज की रोशनी में विटामिन डी होता है। विटामिन डी प्रोस्टाग्लैंडीन के उत्पादन को कम करने में मदद करता है जो मासिक धर्म के दौरान दौरे का कारण बनता है। इस प्रकार हमें आवश्यक विटामिन डी प्राप्त करने के लिए धूप में रहने की आवश्यकता है।

क्या रोजाना अनार का जूस पीने से वजन कम किया जा सकता है?

हाइड्रेटेड रहें

मासिक धर्म के दौरान पानी पीना बहुत जरूरी है। अगर शरीर में पर्याप्त हाइड्रेशन नहीं होगा तो यह सूजन जैसी समस्या पैदा कर सकता है। इसी तरह अदरक के साथ चाय पीने से मासिक धर्म में ऐंठन होने लगती है। अगर आप सिर्फ सादा पानी नहीं पी सकते हैं, तो आप स्वादिष्ट मिनरल वाटर या पुदीना का मिश्रण ले सकते हैं। यह न केवल हाइड्रेशन के लिए अच्छा है, बल्कि मासिक धर्म में ऐंठन और समग्र स्वास्थ्य के लिए भी अच्छा है।

कैंसर: क्या इन 9 लक्षणों से कैंसर होने की संभावना ज्यादा…

योग का अभ्यास करें

मासिक धर्म के दर्द को नियंत्रित करने के लिए योग सबसे अच्छा उपाय है। ऐसा इसलिए क्योंकि योग करने से पेल्विक एरिया का रोटेशन बढ़ेगा। इसके अलावा, योग व्यायाम एंडोर्फिन को रिलीज करने में मदद करते हैं, जो हार्मोन प्रोस्टाग्लैंडिन जैसे पदार्थों का विरोध करने में मदद करते हैं, जो मासिक धर्म के दौरान गर्भाशय की मांसपेशियों को अनुबंधित करते हैं।

प्राणायाम और शवासन जैसे आसन योग अभ्यास में उत्कृष्ट हैं। क्योंकि, वे सरल हैं। इसके अलावा यह आपके शरीर को अधिक आराम से काम करने में मदद करता है। हल्के योगासन आपके दर्द को तुरंत कम कर देंगे। शारीरिक और मानसिक दोनों तरह से पर्याप्त आराम करने से भी मासिक धर्म के दर्द से राहत मिल सकती है।

Source link